क्या आप अरुंधती राय को जानते हैं?

उदय केसरी
क्या आप अरुंधती राय को जानते हैं? आपमें से कई लोग कम से कम इतना जरूर जानते होंगे कि वह भारत की प्रसिद्ध लेखिका व समाजसेविका हैं। पर क्या आप यह जानते हैं कि उन्हें खुद को भारतीय कहने में शर्म आती है। हैरानी हो रही है न, पर यह सच है। यही नहीं, वह भारतविरोधी मुहिम भी चला रखी है, जिसमें उनका साथ दे रहे हैं कई एनआरआई भारतीय। मुहिम रूपी इस राष्ट्रविरोधी दुष्साहस का मकसद है, भारत से कश्‍मीर को आजाद कराना। सोमवार (15 तारीख) को जब पूरा देश राजधानी दिल्‍ली में आतंकी बम विस्फोट की घटना से चिंतित था, तब श्रीनगर में आयोजित कश्‍मीरियों की एक रैली में अरुंधती राय बोल रही थी,‘'कश्‍मीर को भारत और भारत को कश्‍मीर से आजादी चाहिए। लोग कश्‍मीरियों की बात नहीं सुनना चाहते हैं।'
अपने देश की सहनशक्ति वाकई में असीम है कि एक तरफ, अपने ही देश के मतीभ्रष्ट नौजवानों का संगठन सिमी आईएसआई के इशारे पर देश में आतंकी वारदात को अंजाम दे रहा है और इंडियन मुजाहीद्दीन के नाम उसकी जिम्मेदारी भी ले रहा है। दूसरी तरफ, अल्पसंख्यक वोट बैंक बचाने लिए अपने ही देश के राजनेता सिमी के रहनुमा बने फिर रहे हैं। पुलिस की खुफिया शाखा और एसटीएफ के सूत्रों की मानें तो ऐसे आतंकियों को पनाह देने वालों में मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात व उत्तर प्रदेश के कई राजनेता और उद्योगपति शामिल हैं। राजनेताओं में कांग्रेस, भाजपा के अलावा कई क्षेत्रीय दलों के बड़े-छोटे पदाधिकारी भी शामिल हैं।
वाह! धन्य हैं भारतमाता और उसकी सहनशीलता, जिसकी कोख से पैदा लेकर, खून-पसीने से हासिल आजाद भारत में पल-बढ़कर कुछ लोग उसी मां की अस्मिता व अस्तित्व के खिलाफ वातावरण में जहर घोल रहे हैं। जिस अरुंधती राय व राजनेताओं पर भारत की जनता ने विश्‍वास किया और उन्‍हें देश और समाज के सेवक का दर्जा व सम्मान दिया, वे भारत की संप्रभुता और अखंडता के खिलाफ या कहें भारत के सिरमौर कश्‍मीर को देश के नक्‍शे से मिटाने की खुलेआम पैरवी करने लगे हैं। एहसानफरामौशी का आलम यह है कि अरुंधती राय की अगुवाई में अमेरिका और यूरोप के तथाकथित मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की ब्रिगेड तैयार की गई है, जिसमें अधिकतर एनआरआई भारतीय शामिल हैं। इस ब्रिगेड ने कश्‍मीर के अलगाववादियों की कट्टरवादी दलीलों का समर्थन करते हुए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग में भारत विरोधी एक याचिका दायर की है। याचिका में संयुक्त राष्ट्र को जम्मू-कश्‍मीर में मानवता पर संकट से निपटने के लिए हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई गई है। याचिका में कश्‍मीर में पिछले माह मुसलमानों पर हुए हमलों पर चिंता व्यक्त की गई, जबकि 1989-90 में चार लाख से अधिक कश्‍मीरी पंडितों को घर-बार छोड़कर कश्‍मीर से भागने पर विवश करने की घटना का जिक्र तक नहीं किया गया है। शायद, अरुंधती राय ब्रिगेड के मानवाधिकार के दायरे में कश्‍मीरी पंडितों के बेघर होने का दर्द नहीं आता। खैर, याचिका में यह भी कहा गया है कि जम्मू क्षेत्र में मुस्लिम धार्मिक-सांस्कृतिक विरासत को तबाह किया जा रहा है। और यह भी कि 1989 से कश्‍मीर में सशस्त्र स्वतंत्रता आंदोलन चल रहे हैं, जिन्हें कुचलने के लिए भारत की कार्रवाइयों से मानवाधिकार हनन की गंभीर घटनाएं हो रही हैं।
कैसी विडंबना है, इतना गंभीर आरोप लगाने वाले तथाकथित मानवाधिकार कार्यकर्ता इसी भूमि की पैदाईश हैं। क्या कभी आपने सहज भाव से भारत के नक्‍शे की कल्पना कश्‍मीर को अलग करके की है? क्या हमारे ही पूर्वजों ने इस देश की संप्रभुता और आजादी की खातिर अनगिनत कुर्बानियां दी थीं और गुलाम भारत को अपने खून से सींच कर अहलेचमन बनाया था? कल तक तो पाकिस्तान के भेजे आतंकी हमारे देश की संप्रभुता पर हमला कर रहे थे, अब तो अपने ही घर के लोग और वह भी जाने-माने लोग, स्वार्थ में इस कदर वशीभूत हो चुके हैं कि अपनी ही मां से गद्दारी करते उनकी रूह तक नहीं कांप रही हैं...

11 comments:

  1. इस देश में विभीषणों व जयचंदों की कमी थोड़े ही है और अरुंधती राय तो मुझे शुरू से ही विदेश एजेंट नजर आती थी समाज सेवा के नाम को भी दागदार कर रही है ये ,कश्मीर पर बयानों के लिए इसे सजा मिलनी चाहिए और भारतीय मिडिया को इसका हर तरह से बहिस्कार करना चाहिए इस औरत की कोई भी ख़बर कवर नही करनी चाहिए ,इस तरह के लोग जो चर्चाओं में बने रहने के लिए विवादित बयान जारी करतें है उनका बहिस्कार ही करना ठीक है |

    ReplyDelete
  2. विदेशी पुरस्कारों के लिए कुछ भी किया जा सकता है....


    पढ़ कर कोई आश्चर्य नहीं हुआ. सब कुछ जग जाहिर ही है :)

    ReplyDelete
  3. यह देश सदा से गद्दारों का स्वर्ग रहा है। इनके दोगलेपन की कोई सीमा नही है। ये किसी और के इशारे पर नाच रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. सर नमस्कार
    जब्कोई आपनी माँ को माँ मानने साईं इंकार करता है तो जरुर यह बा सामने आती है की वह औलाद नही बल्कि औलाद के नाम पर धब्बा है इनकी रगों मे खून नही बल्कि जहर दोड़ रहा है जो इन फिजाओ मे घोल रही है समाज सेविका का ढोग रचने वाली यह किसी देशद्रोही साईं कम नही है हम कहते है की माँ अपने आप मे इक पुरी सृस्ती के सामान है यह लोग नारी के नाम पर कलंक है हम लोग आतंकवादी को दोस देती है की वे हमारी संस्कृति को नस्ट करने पर लगे है पर इन लोगो को क्या कहेगे जो ख़ुद देस को तबाह करने पर तुले हुऐ है

    ReplyDelete
  5. sir aapka article accha hai sath hi aapki bat bhi bahut sahi hai lekin sir ye log vivadon main aane ke bad bhi apni aadat nahin chhodte kamate hamare hi desh main aaker hai aur bat bahar ke logon ki tarha karte hai.

    ReplyDelete
  6. shayad aapne pure bhasan ko nahi padha hai udai ji..

    ReplyDelete
  7. मुझे लगता हे यह इग्लेण्ड से हे इस के बारे पहले भी किसी बात पर चर्चा हुयी थी,लेकिन अगर यह अपने आप कॊ भारतीय नही कहती तो इसे भारत के मामले मे बोलने का क्या हक हे, ओर फ़िर यह तो साफ़ जाहिर हे जितनी भी समाज सेविका, बाल सेविका, ओर नारी सेविका होती हे सब की सब ऎसी ही होती हे.......
    आप के लेख के लिये बहत धन्यवाद, लेकिन सभी एनआरआई ऎसे नही होते, हो सके तो इस का चित्र यहां से हटा दो देखने मे परेशानी ओर नफ़रत होती हे

    ReplyDelete
  8. सर ये देश को बांटने की साजिश है महज चंद वोटों की खातिर,चाहे वो राज ठाकरे कर रहे हो या मुलायम सिंह हो,या अरुंधती राय!अपनी अभिव्यक्ति प्रकट करने की स्वतंत्रता सबको है लेकिन अभिव्यक्ति ऐसी हो की देश टुकडो में बाँटने को मजबूर हो जाये तो ऐसे लोगो पर देश द्रोह का मुकदमा चलना चाहिए!

    ReplyDelete
  9. sir me aapki bat se sahmat hoo par sir ham es bat ko bhi nahi jhuthala sakate hai ki hamari sena bhi kasmiri logo ke sath atyachar karti hai.arundhati rai ne jo kiya vah galat parntu ham sirf unki bat karke hi mamale ko chod nahi sakate hai.

    ReplyDelete
  10. सर, आपका मानना सही है देश में बसे गद्दार लोगों से देश को कोई फ़ायदा नहीं, केवल नुकसान है.

    ReplyDelete
  11. मनीष कुमार मैथिलSeptember 24, 2008 at 1:46:00 PM GMT+7

    aap sahi kehte hai ki india mai atankwadi rehte aur nuksan bhi karte. koi bahar sai aakar itna kuch nahi kar sakta. yeh sub rajneeti key funday hai

    ReplyDelete

Recent Posts

There was an error in this gadget