चरित्रहीनता मे डूबे राजनेता

सुनीता देवी प्रकरण पर सीधी बात
कांग्रेसी विधायक सुनीता देवी पर लगे अंगरक्षक के यौन शोषण के आरोप ने राजनेताओं के 'रासरंग' की चटकारे वाली चर्चा शुरू करा दी है। इस बहाने नेताओं के 'पति, पत्नी और वो', 'महिला मित्र' या फिर कुर्सी से जुड़ी रंगरेलियों पर नए सिरे से बहस हो रही है। ऐसे कई गंभीर सवाल अवाम की जुबान पर हैं कि 'आखिर राजनेता किस हैसियत से समाज का पथ प्रदर्शक होने का दावा करते है; इन रवैयों से समाज को कौन-सी दिशा मिलती है?'
दरअसल सुनीता देवी प्रकरण पहला और आखिरी नहीं है। लंबी दास्तान। कई ने पारिवारिक विवशता के चलते संबंध बनाए यानी बाकायदा दूसरी शादी की। लेकिन सर्वाधिक मामलों में पहली पत्नियों ने 'स्मार्ट सौत' की मौजूदगी में स्वयं को जबरिया 'एडजस्ट' कर रखा है। चर्चा इस बात की हो रही है कि कैसे मुख्य धारा के लगभग पचपन राजनीतिज्ञ [विशेषकर विधायक] दो या इससे अधिक पत्नियों के पति है। पत्नियां प्रताड़ित है किंतु लोक-लाज या भय से मुंह नहीं खोलतीं। सर्वाधिक वही राजनेता भटके, जो गंवई माहौल से निकल अचानक चकाचौंध की हैसियत में पहुंचे। सत्ता के दलाल या सरकार गिराओ- बचाओ के नियामक इस भटकाव को और बढ़ाते है।
मगर दुर्भाग्य से ऐसे मामले यहां मजाक के विषय भर है। अखंड बिहार की आखिरी विधानसभा में तत्कालीन आदिवासी कल्याण मंत्री बागुन सुम्ब्रई ने जब विदाई में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से छठी पत्नी मांगी, तो सदन में जोरदार ठहाका गूंजा। कुछ और उदाहरण-लघु सिंचाई मंत्री रहे मंगनी लाल मंडल की दूसरी शादी पर विधानसभा में भी हंगामा हुआ। अलकतरा घोटाला के आरोप में पथ निर्माण मंत्री मो. इलियास हुसैन जब जेल गए तो उनके समर्थकों ने उनकी पत्नी को मंत्री बनाने की मांग उठाई किंतु मामला इस सवाल पर फंसा कि आखिर उनकी तीन पत्‍ि‌नयों में कौन मंत्री बनेंगी? केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पुरानी शिकायत रही है कि किसी को दूसरे की निजी जिंदगी में झांकने का अधिकार नहीं होना चाहिए। असल में उनके राजनीतिक विरोधियों को जब भी मौका मिला, उनकी गांव वाली दूसरी पत्नी का मुद्दा उठा दिया। विधायक केडी सिंह यादव की दूसरी शादी पर बवाल हुआ। एक कांग्रेसी सांसद ने पत्नी के रहते नाबालिग लड़की से शादी की। कांग्रेस के एक विधायक की पत्नी दूसरी महिला कांग्रेसी विधायक से नाजायज संबंधों के हवाले सड़क पर भिड़ गई। दो कांग्रेसी मुख्यमंत्रियों का महिला प्रेम जगजाहिर रहा है। कर्पूरी ठाकुर भी ऐसी बदनामी से तभी मुक्त हुए, जब कोर्ट ने हस्तक्षेप किया। दुष्कर्म के दौरान एक लड़की ने राजद विधायक योगेंद्र सरदार का लिंग काट लिया। ख्यात राजनीतिज्ञ धनिक लाल मंडल ने भी दूसरी पत्‍‌नी [कुसुम चौधरी] से तलाक को ले बुढ़ौती में बदनामियां झेलीं।
राजनीतिक पार्टियों की रैलियों में अपसंस्कृति की पराकाष्ठा, कमोवेश इसी कुंठा का पर्याय है। लालू प्रसाद और राबड़ी देवी की मौजूदगी में मुख्यमंत्री आवास में कई बार लौंडा व हिजड़ा नाच हुआ। यह आम राय है कि इसका सीधा असर महिलाओं या लड़कियों के खिलाफ बढ़ते अपराध के रूप में परिलक्षित होता है।
ऐसे में नौकरशाहों का कहना ही क्या? तीस के करीब आईएएस-आईपीएस अधिकारियों के संबंध दूसरी महिलाओं से रहे है। चाहे आईपीएस अमिताभ दास का मसला हो या प्रसिद्ध गायक उदित नारायण का- घरेलू विवाद सुलझाने में राज्य महिला आयोग परेशान है।
नेता-नौकरशाहों के बहके मिजाज से पनपे सेक्स स्कैंडलों की भी कमी नहीं है। बाबी हत्याकांड, शिल्पी-गौतम कांड, चंपा विश्वास बलात्कार कांड, पापरी बोस अपहरण कांड, सुभाष-सुशान हत्याकांड, दीपा मुर्मू कांड .., लंबी फेहरिस्त है। लेकिन शायद ही किसी मामले में असरदार कार्रवाई हुई।
उल्लेखनीय है कि कोढ़ा विधायक सुनीता देवी पर उनके ही बाडीगार्ड बाल योगेश्वर शर्मा उर्फ लाली ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। जिसके बाद सुनीता देवी ने प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा दे दिया। वहीं, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर गठित एक दो सदस्यीय टीम ने सोमवार को सुनीता देवी से पूछताछ की। सुनीता देवी ने इस पूरे प्रकरण से पल्ला झाड़ते हुए अपने को निर्दोष बताया है। उसका कहना है कि वह और लाली के बीच भाई-बहन का रिश्ता है। लाली ने इसी रिश्ते को बेजा इस्तेमाल किया और अब वह उसे ब्लैकमेल कर रहा है। उधर, लाली को इस प्रकरण को मीडिया के समक्ष उजागर करने की सजा निलंबन के रूप में मिली है। इसके साथ ही लाली के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही भी चलाने का निर्देश दिया गया है। साभार : जागरण डॉट याहू डॉट कॉम

No comments:

Post a Comment

Recent Posts

There was an error in this gadget