...तो क्या देश की व्यवस्था भ्रष्टाचारियों का पोषक है?

उदय केसरी
हालांकि टाइटलर को क्लीनचीट, चिदंबरम को जूता व वरूण के जहरीले भाषण के मुकाबले काले धन की देश वापसी का मुद्दा फिलहाल नरम पड़ गया है। लेकिन अन्य मुद्दों की गर्मी तात्कालिक है, काले धन की देश वापसी का मुद्दा अहम और विचारणीय है। यह मुद्दा हमारे देश की अर्थव्यवस्था से जुड़ा है, जिसमें सेंध लगाने वाले देश के भ्रष्ट नेताओं और बड़े प्रशासनिक अधिकारियों के अरबों रुपये स्विस बैंकों के गोपनीय खातों में जमा हैं। यह मुद्दा नया नहीं, पुराना है। आजादी के बाद से ही स्वीट्जरलैंड के बैंकों में भारत से काला धन जमा होने का सिलसिला शुरू हो चुका था। स्वीस बैंकों में साल-दर-साल भारतीय खातों की संख्या बढ़ती गई। यानी भारत से काले धन की आमद लगातार बढ़ती रही।

हालांकि भारतीय खातों और उनमें जमा रकम के बारे में वास्तविक स्थिति की जानकारी भारत को नहीं है, क्योंकि ये खातें स्वीस बैंकों की नीति के तहत अत्यंत गोपनीय रखे जाते हैं, फिर भी स्वीस बैंकिंग एसोसिएशन की सालाना रिपोर्ट के जरिये इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। इस एसोसियेशन की 2008 की रिपोर्ट के मुताबिक स्वीस बैंकों में काला धन जमा करने वाले शीर्ष पांच देशों में भारत का स्थान 1891 अरब डालर की रकम के साथ सबसे ऊपर है। शेष चार देशों में दूसरे नंबर पर रूस (610 अरब डालर), तीसरे नंबर पर चीन (213 अरब डालर), चौथे नंबर पर यूके (210 अरब डालर) व पांचवें नंबर पर यूक्रेन (140 अरब डालर) हैं। वहीं बाकी दुनिया के देशों को मिलाकर स्वीस बैंकों में महज 300 अरब डालर ही जमा हैं।

अब यदि इस रिपोर्ट को सच मान लिय जाए तो भारत के खातों में जमा धन (1891 अरब डालर ) का आंकड़ा क्या चैकाने वाला नहीं है? यदि इसे 45 रूपये प्रति डालर के ही भाव से रूपांतरित करें तो यह आंकड़ा 85,09500 करोड़ रुपये के करीब होगा। वैसे अभी डालर का भाव मुद्रा बाजार में 49 रूपये चल रहा है।...तो क्या कहेंगे अपने देश की कमाई के बारे में?...क्या अपना देश वाकई में गरीब है? या इसे भ्रष्टाचारियों ने गरीब बनाकर रखा है?

खैर, इन सवालों पर विचार करने से पहले इस भारी-भरकम काले धन की क्षमता पर विचार करके देखें तो पायेंगे कि यदि देश के तमाम बैंकों में जमा रकम को इकट्ठा कर दिया जाए तो भी वह स्वीस बैंकों में भारत के खातों में जमा कुल रकम के बराबर नहीं होगा। यही नहीं, मसलन, यह रकम भारत की रक्षा मद पर वर्ष 2008-09 में खर्च हुई राशि 1,05600 करोड़ रूपये से भी करीब 85 गुणा अधिक है।
काले धन के बारे में इन आंकड़ों की विशालता से क्या ये सवाल नहीं खड़े होते कि भारतीय शासण व प्रशासन की व्यवस्था भ्रष्टाचारियों का पोषक है? भ्रष्टाचार के विरूद्ध, जो भी कानून हैं, वह केवल छोटे लोगों के लिए सशक्त हैं?...तो क्या देश की अर्थव्यवस्था में सेंध लगाने वालों को कभी नहीं रोका जा सकता? कम से कम बोफोर्स, चारा, प्रतिभूति, दवा, स्टाम्प आदि-आदि अनेक घोटालों में आरोपियों पर अबतक जो कार्रवाइयां हुई है, उससे तो ऐसा ही लगता है।

खैर, यदि केंद्र में प्रतिपक्ष के नेता और पीएम इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी की बात करें, जिन्होंने ठीक चुनाव के वक्त काले धन का मुद्दा उठाया है, तो क्या इतने वृद्ध पुरुष को पिछले 50-55 सालों से जारी इस काले कारनामें पर पहले कभी ध्यान नहीं गया? भाजपा नेतृत्व की एनडीए की सरकार में उपप्रधानमंत्री रहते हुए भी नहीं। अब कांग्रेस तो भ्रष्टाचारियों का सबसे सेफ पार्टी रही है, लेकिन इतने बड़े मुद्दे को लेकर भाजपा ने पहले से कोई बवाल क्यों नहीं किया?....जिन गरीबों के हक मार कर स्वीस बैंक में काला धन जमा किये गए, उनकी मौत और तबाही की चिंता पहले नहीं हुई?

दरअसल, जैसा कि पहले भी कह चुका हूं कि ये काले धन भ्रष्ट नेताओं और भ्रष्ट आईएएस, आईपीएस, आईआरएस अधिकारियों द्वारा जमा कराये गए हैं, जबकि ये ही हमारे देश के नीति-नियंता भी है,,,तो आखिर कोई आवाज उठाये भी, तो इनके खिलाफ कार्रवाई कौन करे? वैसे भी ईमानदार नेता व अधिकारी इस देश में अल्संख्यकों से भी कम रह गए हैं, तो फिर क्या गारंटी है कि एक बार किसी तरह से स्वीस बैंकों से काले धन को वापस ले भी आया जाए, तो उस धन को फिर काला बनाकर वापस स्वीस बैंकों में जमा नहीं कराया जाएगा?....बंधुवर, भारत में दो तरह के मुद्दे होते हैं,एक राजनीतिक चुनाव जीतने वाले, जिसे चुनाव जीतने के बाद भूल जाने की परंपरा है और दूसरा, मुद्दा विकास व सुधार करने वाले, जिसे अक्सर गैर-राजनीतिक सामाजिक कार्यकर्ता उठाते हैं और जिसपर सालों-साल संघर्ष करने पर सफलता हाथ लगती है। सच कहें तो वर्तमान परिस्थिति में दूसरे तरह के मुद्दे भी राजनीतिकों के अपने नफा-नुकसान की शर्त ही सफल होते हैं।

बहरहाल, अंत में मैं आमीर खान का नारा ‘सच्चे को चुनें, अच्छे को चुनें’ बुलंद करते हुए कहना चाहूंगा कि चुनावी मुद्दों पर पाखंडी नेताओं के क्षणिक जोश में कतई न आएं, थोड़ा गौर से सफेदपोशों के अंदर झांक कर भी देख लें, सफेद कपड़ों पर काले धब्बे जल्द ही नजर आ जाते हैं।

3 comments:

  1. अब आप ने इस विषय पर कभी पहले चर्चा क्यों नहीं की ? इसी तरह आडवानी के भी अपने वाजिब तर्क हो सकते हैं -रिसेसन के दौर में यह पहल अमेरिका ने शुरू की है ! ओबामा ने अपने देश की यह काली सूची मांगी है -इस समय भारत भी ऐसा दबाव बना सकता है .
    आप की बात से सहमत हूँ की भ्रष्ट लोगों में बेशर्म नेता और प्रशासनिक अधिकारी ही हैं और देश यही चलाते हैं ! वे अपने पैर पर कुल्हाडी क्यों मारेंगें ! इस मुद्दे को राष्ट्र संघ या आई एम् ऍफ़ की और से टेक अप होना चाहिए ! और अपनी सरकार यह संसद में पारित करके कि नाम रहित या नाम सहित काली सूची और पूरी राशिः भारत को सौप दे -राष्ट्र संघ इस पर मुहर लागा दे तो काम बन जायेगा ! इस मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय कानून की परिधि में लाने की मुहीम तेज होनी चाहिए !
    कृपया इस मुद्दे को ठंडा न पड़ने दें !

    ReplyDelete
  2. काले धन और स्विटजरलेंड की व्यवस्था् बरसों से चल रही है। वहाँ भारत के अलावा अन्य देशों का धन जमा है। अमरीका और दूसरे बड़े देशों ने इस के विरुद्ध कभी आवाज नहीं उठाई। अभी मंदी में ही यह आवाज उठी है। इस से यह प्रमाणित है कि व्यवस्था भारत की ही नहीं तमाम उन देशों की जहाँ भी खुला बाजार है भ्रष्ट है और काला पैसा स्विस बैंकों में जमा होता है। जिस मांग को अडवानी जी आज उठा रहे हैं, उसे पहले जब एनडीए की सरकार रही तब क्यों नहीं उठाया? अब वे सरकार में आने पर इस काले धन को भारत लाने में सक्षम होंगे? इस का ब्लू प्रिंट देश के सामने रखना चाहिए था। उन्हों ने ऐसा कुछ नहीं किया। वास्तविकता यह है कि देश में वास्तविक राज तो इन्हीं काले धंधे वालों का है। काँग्रेस हो या भाजपा ये सभी उन के ऐजेण्ट मात्र हैं।

    ReplyDelete
  3. आपका लेख तो अच्छा लगा ही साथ ही आपके मित्र अरविन्द मिश्र का कमेन्ट भी अच्छा लगा ...... ये तो सभी जानते है की राजनेता बिना अपने व्यक्तिगत फायदे के बिना कोई मुद्दा नहीं उठाते ...... और फिर तो अभी चुनाओ पर्व चल रहा है......

    इस पर मुझे बस इतना कहना है की जैसे अमेरिका ने स्विस बैंक पे प्रेशर दिया है वैसे भारत सर्कार को भी लिस्ट मांगनी चाहिए ............. कम से कम पता तो चले की इन ब्रस्त्ताचारियो में बाप कौन है...............
    पर पता नहीं अपने भाई बंधुओ से भारत सर्कार बैर ले पाएगी की नहीं ...................????

    ReplyDelete

Recent Posts

There was an error in this gadget